गोंडा के नवाबगंज थाने में पुलिस अभिरक्षा में युवक की मौत मामले में एक दरोगा व सात सिपाही निलंबित
One constable and seven constables suspended in the case of youth's death in police custody in Nawabganj police station of Gonda

Gonda News: गोंडा जिले के नवाबगंज थाने में पुलिस अभिरक्षा में युवक की मौत मामले में बढ़ते दबाव को देखते हुए पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर ने एक दरोगा व सात और पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है। प्रकरण झोलाछाप डॉक्टर राजेश हत्याकांड से जुड़ा हुआ है।

बता दें कि नवाबगंज थाना क्षेत्र के चौहान पुरवा निवासी झोलाछाप डॉक्टर राजेश चौहान की गत दिनों सोते समय रात में गला रेत कर हत्या कर दी गई थी। प्रकरण की जांच में जुटी स्थानीय थाने की पुलिस व एसओजी टीम ने  मोबाइल कॉल डिटेल के आधार पर इसी थाना क्षेत्र के माझा राठ गांव निवासी बिजली विभाग में आउटसोर्सिंग के जरिए कार्यरत लाइनमैन देव नारायण यादव उर्फ देवा को पूछताछ के लिए 14 सितंबर को थाने में बुलाया था।

Moradabad: मां-बेटी को सिर कुचलकर उतारा मौत के घाट, ससुराल वालों पर जमीनी विवाद में हत्या का आरोप


देवा को लेकर उसके पिता राम बचन यादव अपने दामाद ग्राम प्रधान राधेश्याम यादव के साथ थाना गए थे। रामबचन का आरोप है कि उनके पहुंचते ही पुलिसकर्मी देवा को मारने पीटने लगे इसका जब उन्होंने विरोध किया तो उन्हें दूसरे कमरे में बैठा दिया गया। इसके कुछ देर बाद बताया गया कि देवा बेहोश हो गया है उसे अस्पताल ले जाया जा रहा है। इस जानकारी के बाद जब हम लोग जिला अस्पताल पहुंचे तो उसका शव लेकर पुलिस पहुंची।

पिता का यह भी आरोप है कि पुलिस पिटाई से ही उसके बेटे की मौत हुई है। मामले में तत्समय थाना प्रभारी नवाबगंज तेज प्रताप सिंह व चार पुलिसकर्मियों को नामजद करते हुए मुकदमा दर्ज किया गया था। इसी मामले में त्वरित कार्रवाई करते हुए एसपी आकाश तोमर ने थानाध्यक्ष तेज प्रताप सिंह व एसओजी प्रभारी अमित यादव को निलंबित कर दिया था। घटना के दूसरे दिन पोस्टमार्टम के बाद जब शव नवाबगंज पहुंचा तो वहां मौजूद लोगों का आक्रोश फूट पड़ा। सड़क पर शव रखकर प्रदर्शन कर रहे लोगों ने पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और पुलिस के 8 वाहनों को तोड़ डाला। एक एंबुलेंस को भी इसका शिकार होना पड़ा और उसे उग्र भीड़ ने पलट दिया।

इस मामले में वरिष्ठ अधिकारियों के आश्वासन के बाद किसी तरह प्रदर्शनकारी शांत हुए। पुलिस ने अलग-अलग लोगों की तहरीर पर प्रदर्शनकारियों के खिलाफ चार मुकदमें दर्ज किए हैं। इस बीच मृतक देवा का छोटा भाई राम नारायण जो सेना में है वह घर पहुंचा और उसने मिलिट्री अस्पताल में पोस्टमार्टम कराए जाने की मांग की।

रविवार को पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर ने एक और कार्यवाही करते हुए एक दरोगा व सात पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है। अब तक निलंबित किए गए पुलिसकर्मियों की संख्या 10 हो गई है। 

निलंबित किए गए पुलिसकर्मी


उपनिरीक्षक आलोक सर्विलांस सेल गोंडा, हेड कांस्टेबल मिथिलेश थाना नवाबगंज, आरक्षी धर्मेंद्र, आरक्षी मनोज नवाबगंज, हेड कांस्टेबल राकेश सिंह व अरुण यादव तथा आरक्षी आदित्य पाल व अमित पाठक सभी एसओजी टीम गोंडा शामिल हैं।
 

Share this story