इटावा में अखिलेश ने शिवपाल का पैर छूकर लिया आशीर्वाद, लम्बे समय बाद मंच पर दिखे

In Etawah, Akhilesh took blessings by touching Shivpal's feet, appeared on the stage after a long time

Shivpal and Akhilesh in Mainpuri: मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) के निधन के बाद खाली हुई मैनपुरी लोकसभा सीट पर उप चुनाव (Mainpuri Lok Sabha By Election-2022) में समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) ने परिवार की बड़ी बहू डिंपल (Dimple Yadav) को एक बार फिर से सांसद बनाने के लिए ताकत झोंक दी है। इसी प्रयास को सफल बनाने के लिए समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने डिंपल यादव के साथ सैफई में शिवपाल सिंह यादव के घर जाकर भेंट की थी। इसका बड़ा असर रविवार को देखने को मिला है।

मैनपुरी लोकसभा सीट के उप चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी ने प्रचार अभियान तेज कर दिया है। इसी क्रम में रविवार को अखिलेश यादव और शिवपाल सिंह यादव एक साथ मंच पर दिखे। लम्बे समय बाद मंच पर अखिलेश और शिवपाल सिंह यादव को एक साथ देखकर इटावा में भी लोग काफी प्रसन्न हैं। इटावा में अखिलेश यादव व प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के मुखिया लम्बे समय बाद एक मंच पर आए। रविवार को सैफई के एसएस मेमोरियल स्कूल में आयोजित समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता सम्मेलन में अखिलेश यादव के साथ मंच पर शिवपाल सिंह यादव भी बैठे थे।

लंबे अरसे के बाद शिवपाल यादव और अखिलेश यादव एक मंच पर साथ दिखाई दिए। डिंपल यादव को जीत दिलवाने के लिए मुलायम परिवार सैफई के एसएस मेमोरियल विद्यालय में एक जुट हुए। मंच पर रामगोपाल यादव, रामगोविंद चौधरी, तेजप्रताप यादव, आदित्य यादव भी मौजूद रहे। डिंपल यादव के पक्ष में सपा प्रसपा के सैंकड़ों कार्यकर्ता वहां मौजूद रहे। सैफई के एसएस मेमोरियल कॉलेज में अखिलेश यादव और चाचा शिवपाल यादव एक मंच पर आए। उनके साथ रामगोपाल यादव भी मौजूद थे। उन्होंने कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की। मंच पर आते ही सबसे पहले पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने चाचा शिवपाल के पैर छूकर आशीर्वाद लिया।

मैनपुरी में बहू डिंपल यादव का जिताना : शिवपाल

मैनपुरी में बहू डिंपल यादव का जिताना : शिवपाल


उसके बाद शिवपाल यादव ने मंच पर बोलना शुरू किया। उन्होंने भाजपा पर हमला बोला। कहा कि एक होकर भाजपा को हराया जा सकता है। ये झूठ बोलने वाली सरकार है। हमारे खिलाफ साजिशें हो रही हैं। इस बार भाजपा का रिकॉर्ड मतों से भाजपा को हराना है। मैनपुरी में बहू डिंपल यादव का जिताना है। मंच से शिवपाल यादव ने कहा कि वो कहते थे कि एक हो जाओ। अब हम एक हो गए हैं। अब उनकी बोलती बंद कर देंगे। भाजपा झूठ बोलने वाली सरकार है। इस बार मैनपुरी में साइकिल दौड़ानी है।

चाचा-भतीजे में कभी दूरी नहीं : अखिलेश यादव  


इसके बाद अखिलेश यादव ने मंच संभाला और कहा कि चाचा-भतीजे में कभी दूरी नहीं थी। मैनपुरी का उपचुनाव पूरा देश देख रहा है। हमें एक साथ देखकर भाजपा को तकलीफ हो रही होगी। इस सम्मेलन को उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ पार्टी के मुख्य राष्ट्रीय महासचिव प्रोफेसर राम गोपाल यादव और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने संबोधित किया। तीनों नेताओं को लम्बे अंतराल के बाद एक साथ मंच पर देखा गया है। लंबे समय बाद दोनों नेताओं के एक साथ आने से कार्यकर्ताओ में जोश दिखाई दे रहा है।

मंच पर अखिलेश यादव के पहुंचने पर शिवपाल सिंह यादव ने बुके देकर उनका स्वागत भी किया। इस दौरान प्रसपा महासचिव आदित्य यादव और पूर्व नेता विरोधी दल नेता राम गोविंद चौधरी भी मंच पर साथ में थे। इन सभी के एक साथ दिखने पर अब परिवार में लम्बे समय से चल रही अनबन की अटकलों पर पूर्ण रूप से विराम भी लगता दिख रहा है।  

Share this story