Building Collapse Lucknow: लखनऊ बिल्डिंग हादसे में पहली गिरफ्तारी, सपा नेता का बेटा नवाजिश शाहिद गिरफ्तार

First arrest in Lucknow building accident, SP leader's son Nawazish Shahid arrested

Building Collapse In Lucknow: लखनऊ में बिल्डिंग धराशाई (Lucknow Building Collapse) होने के मामले में बेटे नवाजिश की गिरफ्तारी के बाद सपा विधायक शाहिद (SP MLA Shahid) मंजूर की तबीयत बिगड़ गई है। उन्हें हाई ब्लड प्रेशर की समस्या हो गई। इसके बाद परिजन उन्हें डॉक्टर के पास ले गए। इसके बाद शाहिद मंजूर ने अपना फोन बंद कर लिया और किठौर स्थित अपने आवास पर निकल गए। बुधवार को शाहिद मंजूर लखनऊ पहुंच गए। 


लखनऊ में अलाया अपार्टमेंट गिरने (lucknow building collapse news) के बाद मंगलवार रात करीब 12 बजे पुलिस ने सपा विधायक शाहिद मंजूर के बड़े बेटे नवाजिश (Nawazish Shahid) को लखनऊ के निर्देश पर हिरासत में लिया था। देररात तक नवाजिश से पूछताछ की गई। इसके बाद शासन के निर्देश पर लखनऊ कमिश्नर ने मेरठ एसएसपी रोहित सिंह सजवाण से फोन पर बात की। 

इसके बाद नवाजिश को पुलिस अभिरक्षा में लखनऊ भेज दिया गया। दूसरी ओर देर रात करीब दो बजे विधायक शाहिद मंजूर की तबियत बिगड़ गई। उन्हें हाई बीपी की समस्या हो गई और उन्हें डॉक्टर को दिखाया गया। बाद में उन्हें लेकर परिजन किठौर पहुंच गए। बुधवार को कार्रवाई पूरी कर शाहिद मंजूर अपने कुछ परिजनों के साथ लखनऊ पहुंच गए।
 
क्या है पूरा मामला


लखनऊ के हजरतगंज में वजीर हसन रोड पर स्थित पांच मंजिला अलाया अपार्टमेंट (Alaya Apartment) की इमारत मंगलवार देर शाम भरभराकर ढह गई थी। पुलिस कमिश्नर एसबी शिरडकर ने बताया कि इस हादसे में 15 लोग दब गये थे। 18 घंटे से अधिक चले राहत कार्य में इन सभी को बाहर निकाल लिया गया। इसमें दो महिलाओं की मौत हो गई है। उन्हें नहीं बचाया जा सका। अब कोई नहीं फंसा रह गया है। राहत कार्य में अब मलवा हटाने का काम चल रहा है।

मलबे से निकाली गईं सपा प्रवक्ता अब्बास हैदर की मां और पत्नी की इलाज के दौरान मौत हो गई। इसी के बाद इमारत के मालिक शाहिद के बेटे नवाजिश समेत तीन लोगों को खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया। नवाजिश को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया। वहां से नवाजिश को जेल भेज दिया गया। 


 दो अन्य की तलाश में पांच टीमें लगाई गई हैं। पुलिस कमिश्नर ने गिरफ्तारी की जानकारी देते हुए बताया कि अन्य की भी जल्द गिरफ्तारी कर ली जाएगी। इन लोगों के खिलाफ बुधवार की सुबह एफआईआर दर्ज की गई थी। पहले धारा 308 और 420 में मुकदमा दर्ज किया गया था। अब हादसे में दो लोगों की मौत के बाद गैरइरादतन हत्या का मामला भी जोड़ दिया गया है।  

तीन सदस्यीय कमेटी कर रही जांच

इस कमेटी में  आयुक्त लखनऊ रोशन जैकब , संयुक्त पुलिस आयुक्त लखनऊ पीयूष मोर्डिया एवं चीफ इंजीनियर पीडब्ल्यूडी लखनऊ हैं। ये समिति इस घटना के लिए ज़िम्मेदार लोगों को चिन्हित कर एक सप्ताह के भीतर रिपोर्ट देगी। सभी लोगों के निकाले जाने के बाद भी NDRF, पुलिस जवान लगातार रेस्क्यू में जुटे हैं।


जांच के बाद ही हादसे का कारण पता चलेगा। भूकंप के साथ ही बेसमेंट में चल रहे काम को हादसे का कारण माना जा रहा है। बताया जा रहा है बिल्डिंग निर्माण की गुणवत्ता काफी खराब है। NDRF, SDRF की कुल 12 टीमें लगी हैं।

Share this story