समर्थन के ऐलान के बाद शिवपाल से मिलने पहुंचे अखिलेश यादव-डिंपल, कैसे जीतेंगी डिंपल? बन रहा प्लान

Akhilesh Yadav-Dimple came to meet Shivpal after the announcement of support, how will Dimple win? making plan

Mainpuri By-Election: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की मैनपुरी लोकसभा सीट (Mainpuri Lok Sabha Seat) पर होने वाले उपचुनाव (By-Election) के लिए समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) और भाजपा (BJP) ने अपनी कमर कस ली है। चुनाव प्रचार और रूठों को मनाने के लिए जद्दोजहद शुरू हो गई है।

इसी क्रम में गुरुवार को सपा प्रमुख अखिलेश यादव (Akhilesh yadav) और सपा की प्रत्याशी डिंपल यादव प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष शिवपाल यादव (Shivpal Yadav)  से मिलने के लिए इटावा में उनके आवास पर पहुंचे। बता दें कि शिवपाल यादव सपा की ओर जारी चुनाव में स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल हैं।

8th Pay Commission: केंद्रीय कर्मचारियों की फिर बढ़ेगी सैलरी, 8वें वेतन आयोग पर आया यह बड़ा अपडेट

अखिलेश-डिंपल ने पार्टी कार्यकर्ताओं संग की बैठक


समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक मैनपुरी में चुनाव प्रचार शुरू हो गया है। बुधवार को अखिलेश यादव और डिंपल यादव ने पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ सैफई के एसएस मेमोरियल इंटर कॉलेज में बैठक की। डिंपल यादव ने कहा कि इस चुनाव में जी-जान से जुट जाएं। साथ ही उन्होंने कहा कि यही नेताजी को सच्ची श्रद्धांजलि होगी।



मैनपुरी की जनता से की ये अपील


इसके बाद डिंपल ने मैनपुरी के मतदाताओं से अपील करते हुए अपने ससुर मुलायम सिंह यादव की राजनीतिक विरासत का आह्वान किया। कहा कि मैनपुरी हमेशा नेताजी (मुलायम सिंह यादव) की है और रहेगी। नेताजी हमेशा यहां की जनता के स्वाभिमान के लिए खड़े रहे। अब समय है कि हम उन सिद्धांतों पर काम करें, जिनके लिए हमारे नेताजी जीते थे। उन्होंने कहा कि जिस भाव से नेताजी ने इस क्षेत्र के लोगों का सम्मान दिया, लोगों का साथ वही प्रेम भाव रहेगा।

भाजपा प्रत्याशी ने भी खेला ये खास कार्ड


दूसरी ओर भाजपा के प्रत्याशी रघुराज सिंह शाक्य की ओर से भी जनसंपर्क किया जा रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रघुराज सिंह शाक्य बुधवार को अपना नामांकन दाखिल करने से पहले इटावा में मुलायम सिंह यादव के पैतृक गांव सैफई में उनकी समाधि पर गए थे। चर्चाएं यह भी हैं कि रघुराज सिंह शाक्य काफी समय तक सपा से जुड़े रहे थे। वह मुलायम सिंह यादव और शिवपाल यादव के शिष्य भी रहे हैं।

Share this story