Dhanbad में अवैध खनन के दौरान धंस गई जमीन, मलबे में 25-30 लोगों के दबे होने की आशंका

Land caved in during illegal mining in Dhanbad, 25-30 people feared buried under debris

धनबाद में जमीन धंसी है। घटना के बाद मलबे में 25-30 लोगों के दबे होने की आशंका है। घटना जिले के ईसीएल मुगमा क्षेत्र अंतर्गत कापासारा आउट-सोर्सिंग कोलियरी की है। यहां शुक्रवार तड़के अवैध खनन के दरम्यान चाल धंस गई। 100 मीटर के दायरे में भू-धंसान हुआ है। घटना को लेकर स्थानीय लोगों में दहशत है। ये घटना धौड़ा इलाके से कुछ ही दूरी पर घटित हुई है। पूरे रास्ते में चौड़ी-चौड़ी दरारें हैं। स्थानीय लोगों के मुताबिक घटना को ढाई घंटे बीत चुके हैं लेकिन पुलिस नहीं पहुंची है। अधिकारियों ने भी सुध नहीं ली है। 

अवैध खनन के दौरान धंसी जमीन


धनबाद स्थित ईसीएल मुगमा क्षेत्र के कापासारा आउटसोर्सिंग कोलियरी में अवैध खनन में फिर चाल धंस गई। एक सौ मीटर दायरे में भू धंसान हुआ है। इस हादसे में 25 से 30 लोगों के मलबे में दबकर मौत की आशंका जताई जा रही है। धटना शुक्रवार सुबह की है। इस हादसे के बाद स्थानीय लोगों में दहशत है। धौड़ा से कुछ दूरी पर ही हुई है घटना। धौड़ा जाने वाले कच्चे रास्ते में भी दरार पड़ी है। घटना के ढाई घंटे बीत जाने पर भी मौके पर नहीं पहुंची है निरसा पुलिस। ईसीएल के अधिकारियों ने भी नहीं ली है कोई सुध।

किसी के मौत की आधिकारिक पुष्टि नहीं


मलबे में 2 दर्जन से ज्यादा लोगों के फंसे होने की आशंका है लेकिन स्थानीय प्रशासन फिलहाल इस बात से इनकार कर रहा है। किसी के भी मौत की आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। गौरतलब है कि यहां जामताड़ा और पुरुलिया सहित अन्य जगहों से मजदूर आते हैं और मोटी मजदूरी के बदले अवैध खनन करते हैं। कहा जा रहा है कि कोलियरी प्रबंधन हादसे को छुपाने की कोशिश कर रहा है।

हादसे के बाद बने गोफ की भराई का काम शुरू कर दिया गया है। बता दें कि धनबाद में जमीन धंसने की ये पहली घटना नहीं है। घटना से जुड़ा वीडियो भी सामने आया है जिसमें दूर तक जमीन में मोटी-मोटी दरारें दिख रही हैं। दरार से धुआं निकल रहा है। धनबाद में आग लगने की घटनाएं भी आम हैं। 

Share this story