Mohammed Shami: भारतीय क्रिकेटर मोहम्मद शमी को कोर्ट से झटका, हर महीने पत्नी Hasin Jahan को देंगे इतने लाख रुपये

Mohammed Shami: भारतीय क्रिकेटर मोहम्मद शमी को कोर्ट से झटका, हर महीने पत्नी हसीन जहां को देंगे इतने लाख रुपये

भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ((Mohammed Shami)) को कोलकाता की एक अदालत से बड़ा झटका लगा है। कोर्ट ने शमी ((Mohammed Shami))  से अलग रह रही पत्नी हसीन जहां को 50,000 रुपये मासिक गुजारा भत्ता देने का आदेश दिया है। जहां ने चार साल पहले दाएं हाथ के तेज गेंदबाज पर कई आरोप लगाए थे। अदालत के फैसले के बाद शमी की ओर से भुगतान की जाने वाली गुजारा भत्ता राशि को लेकर जहां खुश नहीं थीं। उन्होंने भारतीय तेज गेंदबाज से हर महीने 10 लाख रुपये की मांग की थी।

2018 में हसीन जहां ((Hasin Jahan) ने 10 लाख रुपये के मासिक गुजारा भत्ता के लिए कानूनी मामला दायर किया था। इसमें उन्होंने अपने खर्च के लिए प्रति माह 7 लाख रुपये और बेटी के रखरखाव के लिए 3 लाख रुपये की मांग की थी। माना जा रहा है कि जहां अधिक गुजारा भत्ते की मांग को लेकर हाई कोर्ट में फैसले को चुनौती दे सकती हैं। मालूम हो कि अलीपुर कोर्ट की जज अनिंदिता गांगुली ने सोमवार, 23 जनवरी को यह फैसला सुनाया।

हसीन जहां ने हर महीने 10 लाख की रखी मांग


मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, अदालत ने शमी को 80,000 रुपये हर महीने उनकी बेटी के रखरखाव के तौर पर देने का भी आदेश दिया। हसीन जहां की वकील मृगांका मिस्त्री ने कोर्ट को बताया कि 2020-21 के आयकर रिटर्न के अनुसार मोम्मद शमी की वार्षिक आय 7 करोड़ रुपये से अधिक है। उन्होंने इसी आधार पर मासिक 10 लाख रुपये गुजारा भत्ते की मांग रखी थी। मिस्त्री का कहना था कि यह राशि शमी के लिए बड़ी बात नहीं होगी। हालांकि, शमी के वकील सेलिम रहमान ने तर्क दिया कि हसीन जहां खुद फैशन मॉडल हैं। उनकी आय का स्रोत इतना है कि वह अपना गुजारा कर सकती हैं। ऐसे में उनकी यह मांग उचित नहीं है। 

हसीन जहां ने शमी पर लगाए कई गंभीर आरोप


मालूम हो कि मोहम्मद शमी और हसीन जहां की शादी 2014 में हुई थी। 2018 में दोनों के बीच विवाद शुरू हो गए थे। हसीन जहां ने मोहम्मद शमी के खिलाफ घरेलू हिंसा के आरोप लगाए थे। दोनों इसके बाद से अलग-अलग रहते हैं। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो दोनों के बीच अभी तक तलाक नहीं हुआ है। जहां ने शमी पर मैच-फिक्सिंग के भी आरोप लगाए थे। यह मामला उन दिनों मीडिया में खूब छाया रहा। हालांकि, फिक्सिंग को लेकर बीसीसीआई की जांच में वो निर्दोष साबित हुए। यह वजह है कि शमी आज भी इंडियन टीम का हिस्सा हैं।

Share this story