World Population: दुनिया की आबादी आज 8 अरब हो जाएगी, 2023 की शुरुआत में भारत पहले नंबर पर होगा

World Population: दुनिया की आबादी आज 8 अरब हो जाएगी, 2023 की शुरुआत में भारत पहले नंबर पर होगा

World Population: संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक दुनिया की आबादी आज 8 अरब हो जाएगी। 2023 की शुरुआत में भारत आबादी में पहले नंबर पर पहुंच जाएगा और चीन दूसरे नंबर पर होगा। ये भी अनुमान है कि आने वाले दशकों में पूरी दुनिया की आबादी धीमी गति से और क्षेत्रीय असमानताओं के साथ बढ़ती रहेगी।

संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या डिविजन का अनुमान है कि पृथ्वी पर मनुष्यों की संख्या आज बढ़कर आठ अरब हो जाएगी, जो 1950 में 2.5 अरब वैश्विक कर्मचारियों की संख्या से तीन गुना अधिक है। संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष के राहेल स्नो ने बताया कि हालांकि 1960 के दशक की शुरुआत में चरम के बाद, दुनिया की जनसंख्या वृद्धि दर में गिरावट आई है।

1962 और 1965 के बीच वार्षिक वृद्धि 2.1 प्रतिशत के उच्च स्तर से गिरकर 2020 में 1 प्रतिशत से नीचे आ गई है। संयुक्त राष्ट्र की परियोजनाओं में प्रजनन दर में निरंतर गिरावट के कारण यह आंकड़ा संभावित रूप से 2050 तक लगभग 0.5 प्रतिशत तक गिर सकता है।

2080 तक कितनी होगी दुनिया की आबादी


बच्चे पैदा करने की उम्र के लोगों की संख्या को देखते हुए संयुक्त राष्ट्र का अनुमान है कि जनसंख्या 2030 में लगभग 8.5 बिलियन, 2050 में 9.7 बिलियन और 2080 के दशक में लगभग 10.4 बिलियन तक हो जाएगी। हालांकि, अन्य समूहों ने अलग-अलग आंकड़े जारी किए हैं।

अमेरिका स्थित इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ मेट्रिक्स एंड इवैल्यूएशन (IHME) ने 2020 के एक अध्ययन में अनुमान लगाया कि वैश्विक जनसंख्या 2064 तक अधिकतम हो जाएगी, बिना 10 बिलियन तक पहुंच जाएगी और 2100 तक घटकर 8.8 बिलियन हो जाएगी।

IHME प्रमुख लेखक स्टीन एमिल वोलसेट ने बताया कि हम उनसे (संयुक्त राष्ट्र) से नीचे हैं और मुझे लगता है कि हमारे पास एक अच्छा कारण है। वाशिंगटन विश्वविद्यालय के प्रोफेसर का कहना है कि उनके काफी अलग प्रजनन मॉडल के तहत मानव आबादी केवल नौ से 10 अरब के बीच ही पहुंच पाएगी।

प्रजनन दर में होगी गिरावट


संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, 2021 में औसत प्रजनन दर प्रति महिला 2.3 बच्चे थी, जो 1950 में लगभग पांच से कम थी, जो कि 2050 तक यह संख्या गिरकर 2.1 हो जाएगी। हम दुनिया में एक ऐसे चरण में पहुंच गए हैं जहां अधिकांश देश और इस दुनिया के अधिकांश लोग ऐसे देश में रह रहे हैं जो प्रतिस्थापन प्रजनन क्षमता से नीचे है या प्रति महिला लगभग 2.1 बच्चे हैं।

प्रजनन क्षमता में गिरावट के साथ संयुक्त परिणाम यह है कि 65 से अधिक लोगों का अनुपात 2022 में 10 प्रतिशत से बढ़कर 2050 में 16 प्रतिशत होने की उम्मीद है। इसका प्रभाव श्रम बाजारों और राष्ट्रीय पेंशन प्रणालियों पर पड़ेगा, जब बहुत अधिक बुजुर्गों की देखभाल की आवश्यकता होगी।

संयुक्त राष्ट्र का अनुमान है कि 2050 तक आधे से अधिक जनसंख्या वृद्धि केवल आठ देशों से आएगी। इनमें कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य, मिस्र, इथियोपिया, भारत, नाइजीरिया, पाकिस्तान, फिलीपींस और तंजानिया शामिल है।

चीन से आगे निकलेगा भारत
संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, दो सबसे अधिक आबादी वाले देश चीन और भारत होंगे। चीन की 1.4 अरब आबादी घटने लगेगी, जो 2050 तक गिरकर 1.3 अरब हो जाएगी। सदी के अंत तक चीनी आबादी काफी हद तक गिर सकती है।

भारत की जनसंख्या, जो वर्तमान में चीन से कुछ ही कम है, 2023 में आगे निकल जाएगा और 2050 तक 1.7 बिलियन तक बढ़ने की उम्मीद है। संयुक्त राज्य अमेरिका 2050 में संयुक्त राष्ट्र की परियोजनाओं में तीसरा सबसे अधिक आबादी वाला देश बनेगा।

Share this story