Bharat Jodo Yatra: गुरुपूरब पर गुरुद्वारे में मत्था टेकने पहुंचे राहुल गांधी-'जो बोले सो निहाल, सत श्री अकाल'

Bharat Jodo Yatra: Rahul Gandhi arrived at Gurupurab to pay obeisance at the gurudwara - 'Who said so Nihal, Sat Sri Akal'

देगलुर( Deglur). कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मंगलवार को भारत जोड़ो यात्रा( Bharat Jodo Yatra) शुरू करने से पहले महाराष्ट्र के नांदेड़ जिले में एक गुरुद्वारे में जाकर मत्था टेका। तेलंगाना से सोमवार रात महाराष्ट्र में यात्रा के प्रवेश के कुछ घंटे बाद कांग्रेस सांसद गुरु नानक जयंती के अवसर पर गुरुद्वारा यादगार बाबा जोरावर सिंह जी फतेह सिंह जी पहुंचे। कांग्रेस ने इस संबध में ट्वीट किया।

इसमें लिखा-जो बोले सो निहाल, सत श्री अकाल। आज 'गुरुपूरब(गुरुपर्व)’ के पावन पर्व पर राहुल गांधी ने देगलूर स्थित यादगार बाबा ज़ोरावर सिंह बाबा फतेह सिंह जी के गुरुद्वारा पहुंचकर अरदास की। श्री गुरु नानक देव जी के आशीर्वाद से आपसी सौहार्द और समानता के लिए प्रार्थना की - यही हमारी यात्रा का लक्ष्य है। आगे पढ़िए पूरी डिटेल्स...

15 दिन महाराष्ट्र में रहेंगी यात्रा


मंगलवार की सुबह नांदेड़ के बिलोली जिले के गुरुद्वारे से अटकली तक मार्च निकाला गया। पार्टी के एक पदाधिकारी ने बताया कि गांधी का रात्रि प्रवास के लिए बिलोली के गोदावरी मनार शुगर फैक्ट्री मैदान में रुकने का कार्यक्रम है। इससे पहले गांधी ने सोमवार रात महाराष्ट्र में 'ज्वलंत मशाल' (मशाल) लिए प्रवेश करते हुए कहा कि केंद्र की गलत नीतियों जैसे नोटबंदी और वस्तु एवं सेवा कर के खराब क्रियान्वयन के कारण छोटे और मझोले कारोबारियों को नुकसान उठाना पड़ा है। गांधी ने कहा कि अगले 15 दिनों में महाराष्ट्र में अपने प्रवास के दौरान वह राज्य की आवाज और उसके दर्द को भी सुनेंगे।

उन्होंने कहा कि कोई भी ताकत उनकी 61 दिन पुरानी यात्रा को रोक नहीं सकती है, जो 7 सितंबर को कन्याकुमारी (तमिलनाडु) से शुरू हुई थी। यात्रा श्रीनगर में समाप्त होगी। कांग्रेस सांसद के नेतृत्व में 3,570 किलोमीटर लंबी यात्रा पड़ोसी राज्य तेलंगाना से मध्य महाराष्ट्र के नांदेड़ जिले के देगलुर पहुंची। राज्य में अपने प्रवास के दौरान, गांधी पार्टी को पुनर्जीवित करने के उद्देश्य से क्रॉस-कंट्री मार्च के हिस्से के रूप में दो रैलियों को संबोधित करेंगे।

कोई ताकत नहीं रोक सकती


गांधी ने कहा कि मार्च दो महीने पहले कन्याकुमारी से शुरू हुआ था और यह तिरंगा फहराने के बाद श्रीनगर में ही रुकेगा।  पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि इस यात्रा को कोई ताकत नहीं रोक सकती। बता दें कि कांग्रेस कई दशकों तक महाराष्ट्र में एक मजबूत राजनीतिक ताकत थी और इस साल जून तक सत्तारूढ़ गठबंधन का एक घटक थी।  राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कह कि यात्रा का उद्देश्य देश को एक साथ बांधना है और देश के सामने प्रमुख मुद्दों को उजागर करना है। भारत की वास्तविकता यह है कि देश इच्छुक होने पर भी अपने युवाओं को रोजगार नहीं दे सकता। एक तरफ बेरोजगारी है तो दूसरी तरफ महंगाई है। कांग्रेस सांसद ने कहा कि उनके क्रॉस कंट्री पैदल मार्च का मुख्य उद्देश्य नफरत, क्रोध और हिंसा के खिलाफ आवाज उठाना है, जो फैलाया जा रहा है।


 

गांधी अपनी यात्रा के दौरान महाराष्ट्र में दो रैलियों को संबोधित करेंगे-पहली 10 नवंबर को नांदेड़ जिले में और 18 नवंबर को बुलढाणा जिले के शेगांव में। वायनाड लोकसभा सांसद के नेतृत्व में मार्च अपने प्रवास के दौरान महाराष्ट्र के 15 विधानसभा और 6 संसदीय क्षेत्रों से होकर गुजरेगा। यह 20 नवंबर को मध्य प्रदेश में प्रवेश करने से पहले पांच जिलों में 382 किलोमीटर की दूरी तय करेगा। यात्रा चार दिनों के लिए नांदेड़ जिले से आगे बढ़ेगी और 11 नवंबर को हिंगोली जिले में, 15 नवंबर को वाशिम, 16 नवंबर को अकोला और 18 नवंबर को बुलढाणा में तय कार्यक्रम के अनुसार प्रवेश करेगी।

कांग्रेस ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष शरद पवार और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (जो पार्टी के दोनों सहयोगी हैं) को पैदल मार्च में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया है। पवार ने पहले कहा था कि वह यात्रा में शामिल होंगे। हालांकि, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक चव्हाण ने कहा है कि महाराष्ट्र में यात्रा में पवार की भागीदारी उनकी स्वास्थ्य स्थिति पर निर्भर करेगी। पवार (81) को हाल ही में बुखार और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के कारण मुंबई के अस्पताल में भर्ती कराया गया था। राकांपा प्रमुख ने शनिवार को डॉक्टरों के साथ मुंबई से शिरडी के लिए उड़ान भरी और अहमदनगर जिले के मंदिर शहर में एक पार्टी सम्मेलन को संक्षेप में संबोधित किया। शिवसेना के उद्धव ठाकरे धड़े के विधायक सचिन अहीर ने कहा कि पूर्व मंत्री आदित्य ठाकरे 150 दिन की यात्रा के महाराष्ट्र चरण में शामिल हो सकते हैं। 

Share this story