Ghaziabad: बाप बेटे ने कार में महिला का मर्डर कर रोड पर फेंकी लाश, 7 साल से चल रहा था अफेयर, बॉयफ्रेंड बोला- अलग घर मांग रही थी

Father and son killed the woman in the car and threw the body on the road, the affair was going on for 7 years, the boyfriend said - she was asking for a separate house

Ghaziabad Crime News: गाजियाबाद में शादीशुदा बॉयफ्रेंड ने बेटे के साथ मिलकर कार में शादीशुदा प्रेमिका की गला दबाकर हत्या कर दी। इसके बाद लाश रोड पर फेंककर एक्सीडेंट का रूप दे दिया। इतना ही नहीं, उसने एक ट्रक ड्राइवर को पकड़कर जमकर पीटा। उससे हत्या की बात कबूल करवाई। जब महिला के पति को यह बात पता चली तो उसने ट्रक ड्राइवर पर FIR करवा दी।

इसके बाद पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम कराया। इसमें पता चला कि महिला की मौत गला दबाने से हुई है। इसके बाद पुलिस ने बॉयफ्रेंड और उसके बेटे को उठाया। उसने सख्ती से पूछताछ की, तो जुर्म कबूल कर लिया। फिलहाल पुलिस ने बॉयफ्रेंड चरन सिंह, उसके बेटे रोहित और उसके दोस्त संदीप को गिरफ्तार कर लिया है। मामला कविनगर थाना क्षेत्र का है।

17 जनवरी की दोपहर चरन सिंह ने मोनिका को फोन करके गाजियाबाद बुलाया। इसके बाद जीटी रोड के एक होटल में ले गए।

17 जनवरी की दोपहर चरन सिंह ने मोनिका को फोन करके गाजियाबाद बुलाया। इसके बाद जीटी रोड के एक होटल में ले गए।

7 साल से चल रहा था अफेयर
DCP निपुण अग्रवाल के मुताबिक, मृतक महिला का नाम मोनिका है। वह नोएडा में के गिरधरपुर सुनारसी गांव की रहने वाली थी। इसी गांव के रहने वाले चरन सिंह से उसका 7 साल से अफेयर चल रहा था। इस बात की जानकारी चरन के घरवालों को हो गई थी। इससे उसका बेटा रोहित और अन्य परिजन नाराज चल रहे थे। इधर, चरन सिंह पर मोनिका मकान खरीदकर देने का दबाव बना रही थी।

इसकी भी जानकारी चरन के बेटे रोहित को हो गई थी। रोहित ने पिता से कहा कि कहा कि तुमने पहले ही हमारी जिंदगी नरक बना रखी है, मोनिका कुछ इलाज करो वरना मैं तुम्हें भी नहीं छोडूंगा। इस पर बाप-बेटे ने मोनिका का मर्डर करने की प्लानिंग बनाई। इसमें अपने दोस्त संदीप को भी शामिल किया।

डीसीपी सिटी निपुण अग्रवाल ने रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करके इस सनसनीखेज वारदात का खुलासा किया।

डीसीपी सिटी निपुण अग्रवाल ने रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करके इस सनसनीखेज वारदात का खुलासा किया।

17 जनवरी मोनिका को फोन करके गाजियाबाद बुलाया था

17 जनवरी की दोपहर चरन सिंह ने मोनिका को फोन करके गाजियाबाद बुलाया। इसके बाद जीटी रोड के एक होटल में गए। यहां शाम साढ़े 7 बजे तक रुके। अंधेरा होने के बाद चरन उसको को लेकर बाहर निकला। प्लान के तहत रोहित-संदीप पहले से अपनी कार लेकर तैयार खड़ा था। महिला को अंदर बैठाकर कुछ दूर ले गए। इसके बाद उसकी गला दबाकर हत्या कर दी। फिर शव को श्रीजी धर्मकांटे के पास फेंक दिया।

ट्रक ड्राइवर मारा-पीटा, उससे एक्सीडेंट की बात कबूलवाई
इसके बाद रोहित-संदीप ने एक ट्रक ड्राइवर को पकड़ लिया। उसे कार में बैठा लिया, खूब पिटाई की और यह उगलवा लिया कि उसी के ट्रक से महिला का एक्सीडेंट हुआ है। इसके बाद मोनिका के पति को फोन कर करके एक्सीडेंट की बात बताई। वह भी इनकी बातों में आकर उसी ट्रक ड्राइवर के खिलाफ एक्सीडेंट की FIR करा दी।

इसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची। महिला को शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा। 19 जनवरी को पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आई, तो इसमें चौंकाने वाले खुलासे हुए। रिपोर्ट में पता चला कि महिला की मौत एक्सीडेंट की वजह से नहीं हुई थी, बल्कि उसको गला दबाकर मार गया था।

बॉयफ्रेंड बोला-मोनिका अलग घर मांग रही थी
इसके बाद पुलिस एक्टिव हुई। फिर महिला के ब्रायफ्रेंड और उसके बेटे को उठाया। फिर दोनों से पूछताछ की, तो मामले का खुलासा हो गया। बॉयफ्रेंड ने बताया कि महिला मुझसे अलग मकान मांग रही थी। इसी के चलते उसने बेटे के साथ मिलकर उसे मार डाला।

Share this story