Noida News: नोएडा विकास प्राधिकरण के पूर्व OSD रविंद्र सिंह यादव पर FIR: विजिलेंस की जांच में भ्रष्टाचार के दोषी मिले

नोएडा विकास प्राधिकरण के पूर्व OSD पर FIR

Noida News: नोएडा विकास प्राधिकरण के पूर्व OSD रविंद्र सिंह यादव के खिलाफ विजिलेंस ने भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत FIR दर्ज की है। शासन द्वारा रविंद्र सिंह यादव को नोएडा में 24 साल तक कार्यकाल की खुली जांच के लिए आदेश विजिलेंस को दिए थे। जांच में सामने आया कि रविंद्र सिंह ने अपने कार्यकाल में तमाम वित्तीय अनियमितताएं की, जिसकी रिपोर्ट शासन को सौंपते हुए FIR दर्ज करने की अनुमति मांगी गई थी। शासन की अनुमति मिलने पर विजिलेंस के मेरठ सेक्टर में केस दर्ज कर विवेचना शुरू कर दी गई है।

रविंद्र के कार्यकाल में वित्तीय अनियमितताएं मिलीं


विजिलेंस की खुली जांच में सामने आया था कि आगरा निवासी रविंद्र सिंह यादव ने अपनी नियुक्ति के दौरान प्राधिकरण द्वारा सेक्टर 5 स्थित डॉ अपार्टमेंट के भूखंड का ट्रांसफर 9 मार्च 2007 को मिनिमम ट्रांसफर शुल्क 600 प्रति वर्ग मीटर लेकर एक सोसाइटी में सर्च आईसीपीओ आईसीएमआर कोऑपरेटिव ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी के पक्ष में किया गया था। जबकि उस समय निविदा की आरक्षित दर 9500 रुपए प्रति वर्ग मीटर थी।

मेरठ: अवैध मीट कारोबारी बसपा नेता पूर्व मंत्री हाजी याकूब कुरैशी की पत्नी दोनों बेटों पर गैंगस्टर

कीमती जमीनों के आवंटन और ट्रांसफर में धांधली का आरोप


ट्रांसफर प्राधिकरण की नियमावली के विरुद्ध काम किया। इससे प्राधिकरण को करोड़ों रुपए का नुकसान हुआ। विजिलेंस ने अपनी जांच रिपोर्ट में कहा था कि इस प्रकरण में रविंद्र सिंह यादव प्राधिकरण की नीति के विरुद्ध निजी लाभ लेने के दोषी पाए गए थे। विजिलेंस की रिपोर्ट पर शासन ने रविंद्र सिंह यादव के खिलाफ FIR दर्ज कर पूरे प्रकरण की विवेचना के आदेश दिए थे। इसके बाद मुकदमा दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जा रही है।

Share this story