लखनऊ में तारपीन तेल की फैक्ट्री में लगी भीषण आग: एक मजदूर जिंदा जला; तीन घंटे बाद दमकल गाड़ियों ने पाया काबू
Massive fire at Turpentine oil factory in Lucknow: One worker burnt alive; After three hours, the fire brigade found it under control.

लखनऊ में मंगलवार रात एक तारपीन तेल की फैक्ट्री में आग लग गई। फैक्ट्री कर्मियों की चीखपुकार और लपटें देखकर आसपास के घरों से लोग बाहर निकल आई। दमकल की आठ गाड़ियों ने आग पर काबू पाया। सूचना है कि आग में झुलसने से एक मजदूर गंभीर रूप से घायल हो गया। जिसकी इलाज के दौरान मौत हो गई।

फैक्ट्री में मजदूरों के खाना बनाते वक्त हुआ हादसा


पारा इंस्पेक्टर दधिबल तिवारी के मुताबिक, पारा मोहान रोड स्थित सलेमपुर पतौरा गांव में एक मकान में मंगलवार रात आग लग गई। यह मकान उन्नाव असीवन निवासी पंकज दीक्षित का है। जहां मजदूरों के खाना बना रहे थे। इसी वक्त अचानक मकान में आग लग गई। भीषण आग से मजदूर सुशील गंभीर रूप से झुलस गया। जिसको पास के नर्सिंग होम ले जाया गया। वहां उसकी मौत हो गई। प्रारंभिक जांच में आग शार्ट सर्किट से लगने की बात सामने आई है।

Greater Noida News: ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को एनपीसीएल ने 8.84 करोड़ रुपए का चेक सौंपा, 27 प्रतिशत हिस्सेदारी का मिला पैसा

मकान में अवैध रूप से बन रहा तारपीन का तेल


क्षेत्रीय लोगों के मुताबिक मकान में अवैध रूप से तारपीन का तेल बन रहा था। जिसके चलते आग ने विकराल रूप ले लिया। आग की सूचना मिलते ही दमकल की गाड़ियों के साथ ही सरोजनीनगर के एसडीएम सिद्धार्थ सिंह, एसीपी दुबग्गा अनिघ विक्रम सिंह भी मौके पर पहुंचे।

सिलेंडर के धमाकों से गूंज गया इलाका, आक्रोश


क्षेत्रीय लोगों के अनुसार आग लगने के बाद घर से दो तेज धमाकों से पूरे इलाका गूंज गया। धमकों के साथ लपटे और तेज हो गईं। आग लगते ही घर में रहने वाला पंकज परिवार समेत भाग गया। वह यहां रहकर अवैध रूप से तारपीन के तेल का काम करता था।

मुआवजे की मांग को लेकर क्षेत्रीय लोगों ने किया हंगामा


आग से झुलकर उन्नाव असीवन निवासी सुशील (40) की मौत की सूचना मिलते ही क्षेत्रीय लोग भड़क गई। आक्रोशित लोगों ने मृतक आश्रित परिवार को 20 लाख रुपये मुआवजा और एक सदस्य को सरकारी नौकरी की मांग को लेकर नारेबाजी शुरू कर दी। जिला प्रशासन की तरफ से मृतक आश्रित परिवार को पांच लाख रुपये के मुआवजा दिलाने का आश्वासन दिया गया। जिसके बाद लोग शांत हुए।

Share this story