Yamuna Expressway से बांके बिहारी तक बनेगा ग्रीन फील्ड एक्सप्रेस-वे:हेरिटेज कॉरिडोर में दिखेगी वृंदावन और मथुरा की सांस्कृतिक झलक

यमुना एक्सप्रेस-वे से बांके बिहारी तक बनेगा ग्रीन फील्ड एक्सप्रेस-वे:हेरिटेज कॉरिडोर में दिखेगी वृंदावन और मथुरा की सांस्कृतिक झलक

मथुरा- वृंदावन भारतीय संस्कृति का एक बहुत बड़ा केंद्र है। यहां पर एक हेरिटेज कॉरिडोर बनाने की योजना स्वीकृत की गई है। करीब 1200 हेक्टेयर में यह बनाया जा रहा है। वहीं, यमुना एक्सप्रेस-वे से बांके बिहारी मंदिर को सीधे जोड़ने के लिए ग्रीन फील्ड एक्सप्रेस वे बनाया जा रहा है, जो 100 मीटर चौड़ा होगा।

यीडा के सीईओ डॉ. अरुण वीर सिंह ने बताया कि इस ग्रीन फील्ड एक्सप्रेस वे के किनारे अपने कल्चरल हेरिटेज मथुरा के ब्रिज क्षेत्र को दिखाने के लिए एक पूरा एरिया विकसित किया जा रहा है। वृंदावन से जुड़ी हुई और मथुरा से जुड़ी हुई जो हमारी सांस्कृतिक धरोहर है, उसे पुनर्जीवित करने की कोशिश की जा रही है।

यमुना प्राधिकरण का अर्बन नोट स्वीकृत

सीईओ अरुण वीर सिंह ने बताया कि मथुरा में यमुना प्राधिकरण का एक अर्बन नोट स्वीकृत हुआ है, उस को राया अर्बन नोट कहते हैं। इसके अनुसार वहां पर एक हेरिटेज कॉरिडोर बनाने की योजना है। इसकी ग्लोबल ट्रेंडिंग होगी और पीपीपी मोड पर होगा। एक्सप्रेस-वे का खर्चा प्राधिकरण वहन करेगा और जो पीपीपी डेवलपर होगा, वह बाकी चीजें उसके द्वारा की जाएंगी।इसके लिए जमीन प्रदेश सरकार उपलब्ध कराएगी।

एक्सप्रेस-वे के किनारे बनाए जाएंगे म्यूजियम

सीईओ ने बताया कि यमुना एक्सप्रेस-वे से बांके बिहारी मंदिर को सीधे जोड़ने के लिए छह किमी लंबा ग्रीन फील्ड एक्सप्रेस-वे बनेगा। ग्रीन फील्ड एक्सप्रेस-वे के किनारे म्यूजियम के साथ-साथ द्वापर काल के जो गांव थे, जैसे नंदगांव, बरसाने, गोकुल भी विकसित होंगे। जो पूरी तरह से श्रीकृष्ण के जीवन की झलकियां दर्शाएंगे। वृंदावन को तालाबों का शहर भी कहा जाता है तो विभिन्न प्रकार के तालाब विकसित किया जाएगा। यह सब सड़क के किनारे होगा। लोग इसे पैदल भी जा कर देख सकेंगे और अपने वाहनों से भी। इसका मकसद भारतीय संस्कृति को लोगों तक पहुंचाना होगा।

1400 मीटर में बनेगी पार्किंग

डॉ. अरुण वीर सिंह ने बताया कि इसके अलावा रिवर फ्रंट डेवलपमेंट का कॉन्सेप्ट है। साथ ही साथ कथा वाचनालय केंद्र बनेंगे, जहां पर कोई भी जाकर भागवत कथा सुन सकेगा। यहां पार्किंग के लिए विशेष इंतजाम किए जा रहे हैं। मथुरा-वृंदावन में वाहनों की पार्किंग की भारी समस्या है, उसको दूर करने के लिए 1400 मीटर में पार्किंग का एक विशाल स्थान बनाया जा रहा है। ग्रीन फील्ड एक्सप्रेस-वे करीब 900 हेक्टेयर की जमीन पर बनेगा, जिसकी लागत लगभग साढ़े 7000 करोड़ की है ।

Share this story