Ghaziabad News: गाजियाबाद में प्रतिबंधित चाइनीज मांजे से कटी सीबीआई कार्यालय में कार्यरत सिपाही की गर्दन, लगाने पड़े 20 टांके

The neck of a constable working in the CBI office was cut by a banned Chinese manja in Ghaziabad, 20 stitches had to be applied

Ghaziabad News: गाजियाबाद। उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के गाजियाबाद (Ghaziabad) जिले में खौफनाक घटना सामने आई है। यहां सीबीआई कार्यालय में कार्यरत एक सिपाही की चाइनीज मांजे से गर्दन कट गई। सिपाही को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। बता दें कि चाइनीज मांजा NGT के एक आदेश के बाद भारत में प्रतिबंधित है। फिर भी बाजारों में इसे बेचा जाता है।

गर्दन में डॉक्टरों ने लगाए 20 टांके


जानकारी के मुताबिक गौरव अरोड़ा (30) बुधवार को विजय नगर इलाके में अपनी बाइक से जा रहे थे। तभी हवा में उड़ता मांजा उनकी गर्दन में आकर फंस गया। इसके बाद वे चलती बाइक के साथ सड़क पर गिर पड़े। उनकी गर्दन से खून बहने लगा। राहगीरों ने उन्हें आनन-फानन में एमएमजी अस्पताल में पहुंचाया। जहां डॉक्टरों ने उनकी गर्दन में 20 टांके लगाए हैं। गाजियाबाद पुलिस ने बताया कि फिलहाल उनकी हालत स्थिर है।

Dog Attack in Ghaziabad: गाजियाबाद में आवारा कुत्तों का आतंक: रामप्रस्थ ग्रीन सोसाइटी में 11 साल की बच्ची पर कुत्तों के झुंड का हमला, घटना CCTV में कैद

सीबीआई अधिकारी ने थाने में दी तहरीर


गाजियाबाद स्थित सीबीआई कार्यालय में तैनात अधिकारी नरेंद्र सिंह ने विजय नगर थाना में मामले को लेकर शिकायत दर्ज कराई है। उन्होंने बताया कि सिपाही गौरव अरोड़ा काम से शहर के सीबीआई कार्यालय जा रहे थे। तभी प्रताप विहार इलाके में चाइनीज मांझे से उनका गला और गले की नस कट गई।

पुलिस बोली जांच के बाद होगा मुकदमा


स्थानीय लोगों ने मदद करते हुए उन्हें एक अस्पताल में भर्ती कराया। बाद में जानकारी होने पर उनके सहयोगी भी अस्पताल पहुंच गए। फिर उन्हें एक दूसरे निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं विजय नगर थाना प्रभारी अनीता चौहान ने बताया कि उन्हें शिकायत मिली है, लेकिन जांच के बाद मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

वर्ष 2017 में NGT ने लगाया था प्रतिबंध


मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) ने वर्ष 2017 में चीनी मांझे पर प्रतिबंध लगाया था। कहा था कि सिंथेटिक स्ट्रिंग त्वचा (खाल) को काट देता है। एनजीटी के इस प्रतिबंध के बाद भी बाजारों में यह धड़ल्ले से बिक रहा है। अगस्त 2018 में गाजियाबाद के ही कृष्णा नगर के पास मांझे से 5 साल का बच्चा गंभीर रूप से घायल हुआ था।

Share this story