Ghaziabad News: गाजियाबाद की फैक्ट्री में रेड, पकड़ी गईं 5 करोड़ की दवाएं, कैंसर की नकली दवाओं की चीन तक सप्लाई, गैंग में MBBS डॉक्टर से इंजीनियर तक

Raid in Ghaziabad factory, drugs worth 5 crore seized, supply of fake cancer drugs to China, MBBS doctor to engineer in gang

Ghaziabad News: उत्तर प्रदेश के जिला गाजियाबाद में एंटी कैंसर की नकली दवा बनाने वाली फैक्ट्री पकड़ी गई है। करीब 5 करोड़ रुपए कीमत की नकली दवाइयां पकड़ी गई हैं। खुलासा हुआ है कि इन दवाओं की ज्यादातर सप्लाई चीन में होती थी। फैक्ट्री में सिर्फ उन्हीं दवाइयों का डुप्लीकेट वर्जन बनता था, जो विदेशी हैं और उनकी कीमत भी लाखों में है। जो फैक्ट्री पकड़ी गई है, वो मुख्य नहीं है। इस गैंग के दूसरे ठिकाने भी स्वास्थ्य विभाग और दिल्ली पुलिस को पता चले हैं।

सबसे पहले पूरी कार्रवाई समझिए


11 नवंबर को गाजियाबाद, नोएडा और बुलंदशहर के ड्रग इंस्पेक्टरों व दिल्ली क्राइम ब्रांच ने गाजियाबाद में ट्रोनिका सिटी थाना क्षेत्र में एक फैक्ट्री पर छापा मारा। यहां एंटी कैंसर की नकली दवाइयां बनाई जा रही थीं। करीब 44 कार्टन दवाइयां बरामद हुईं। ये सभी विदेशी नामचीन कंपनियों का डुप्लीकेट वर्जन थीं। इस फैक्ट्री पर न बनाने और न भंडारित करने का लाइसेंस था। चार आरोपी मौके से गिरफ्तार किए गए। इसमें एक MBBS डॉक्टर पवित्र नारायण, बीटेक इंजीनियर शुभम मन्ना सहित अंकित शर्मा और पंकज सिंह हैं। दिल्ली पुलिस चारों आरोपियों को अपने साथ ले गई है, जबकि दवाओं को ट्रोनिका सिटी पुलिस के सुपुर्द कर दिया गया है।

विदेशी मार्केट में जिसकी डिमांड ज्यादा, वही दवा करते थे तैयार


पूछताछ में डॉक्टर पवित्र प्रधान ने बताया, जिस एंटी कैंसर दवाई की मार्केट में सबसे ज्यादा डिमांड होती है, हम उसी का डुप्लीकेट तैयार करते हैं। डिमांड पता करने के लिए हम कई विदेशी साइट चेक करते रहते हैं। अंकित शर्मा और पंकज सिंह का काम इन दवाइयों को बेचना है। दोनों आरोपियों ने स्वीकारा कि वे इन दवाइयों को पैकेट बनाकर फ्लाइट के जरिये चीन भेजते थे। भारत में इन दवाइयों की सप्लाई कम थी। चीन में इस गैंग का इसी तरह के दूसरे गैंग से कॉन्टेक्ट था, जो इन दवाओं को वहां बेचकर मोटा मुनाफा कमाता था। दिल्ली क्राइम ब्रांच की पूछताछ में पता चला है कि ट्रोनिका सिटी की ये फैक्ट्री मुख्य नहीं है। इसकी मेन मेन्युफेक्चरिंग यूनिट दूसरी है और इस धंधे में कई अन्य लोग अहम हैं। पुलिस अब इनकी तलाश में जुटी है। माना जा रहा है कि जल्द बड़ा रैकेट खुल सकता है।

raid

15 दिन पहले किराए पर लिए दो कमरे


ट्रोनिका सिटी इलाके के जिस मकान में ये फैक्ट्री चल रही थी, उसकी केयर टेकर रेखा यादव हैं। रेखा ने बताया कि ये मकान सुनीता यादव का है। करीब 15 दिन पहले उन्होंने ग्राउंड फ्लोर के दो कमरों को अंकित कुमार निवासी गोठरा (बागपत) को किराए पर दिया था। पुलिस अब इस अंकित कुमार की तलाश कर रही है।

Share this story