फाइव स्टार होटल रेडिसन ब्लू के मालिक ने किया सुसाइड

Owner of Five Star Hotel Radisson Blu commits suicide

गाजियाबाद में शुक्रवार को फाइव स्टार होटल रेडिसन ब्लू के मालिक ने सुसाइड कर लिया। दिल्ली के खेलगांव स्थित उनके घर पर शव फंदे से लटकता मिला। सूचना मिलते ही मौके पर पुलिस पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। बताया जा रहा है कि उनका होटल कारोबार घाटे में चल रहा था, जिसके चलते उन्होंने सुसाइड किया। हालांकि, परिवार के लोग कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हैं।

होटल कारोबारी का नाम अमित है। वह मूल रूप से बागपत के रहने वाले थे। लेकिन, लंबे वक्त से वो परिवार के साथ दिल्ली में रहते थे। उनका होटल गाजियाबाद में मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस-वे के किनारे कौशांबी में स्थित है। बताया जा रहा है कि जिस वक्त उन्होंने फ्लैट में सुसाइड किया, उस वक्त फ्लैट में उनके अलावा कोई और मौजूद नहीं था।

पुलिस अधिकारियों को मुताबिक, मंडावली थाना पुलिस को शनिवार दोपहर करीब 12:30 बजे सूचना मिली कि अमित जैन ने अपने फ्लैट में खुदकुशी कर ली है। पुलिस मौके पर पहुंची। अमित जैन को कमरे में फांसी के फंदे से नीचे उतारकर मैक्स हॉस्पिटल में ले गई। जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। इसके बाद शव को पोस्टमॉर्टम के लिए LBS हॉस्पिटल भेज दिया गया है। पोस्टमॉर्टम रविवार सुबह किया जाएगा।

इंदौर से देवास जा रही बस पलटी, हादसे में तीन की मौत और 12 घायल

नहीं मिला सुसाइड लेटर


दिल्ली पुलिस के अधिकारियों ने बताया कि अमित जैन के फ्लैट से अभी तक कोई सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ है। उनके घर और गाड़ी की तलाशी ली जा रही है। सभी बिंदुओं पर जांच जारी है। अभी यह कहना मुश्किल होगा कि सुसाइड की वजह क्या रही हैं।पूछताछ में पता चला कि अमित जैन अपने नोएडा स्थित नए घर से नाश्ता करके सुबह सीडब्ल्यूजी गांव स्थित घर आए थे, जहां वह अपने परिवार के साथ शिफ्ट हो रहे हैं। वह ऑफिस से कार में अकेले नए फ्लैट पर पहुंचे थे।

बाद में जब उनका बेटा ड्राइवर के साथ सीडब्ल्यूजी में सामान लेने वहां पहुंचा, तो उन्हें वहां लटका देखा। अभी तक किसी भी तरह के फाउल-प्ले का कोई आरोप सामने नहीं आया है। आगे की पूछताछ जारी है।

दुनिया में हर साल 7 लाख लोग कर रहते हैं सुसाइड


WHO के आंकड़े के मुताबिक, दुनिया में हर साल 7 लाख से ज्यादा लोग सुसाइड करते हैं। यानी, जितने लोग मलेरिया, ब्रेस्ट कैंसर, HIV से नहीं मरते, उससे ज्यादा लोग आत्महत्या की वजह से मर जाते हैं। WHO का कहना है कि 15 से 29 साल के युवाओं में मौत की चौथी सबसे बड़ी वजह आत्महत्या है। इतना ही नहीं, महिलाओं की तुलना में पुरुष ज्यादा सुसाइड करते हैं।

WHO के मुताबिक, दुनिया में हर एक लाख मर्दों में से 12.6 सुसाइड करके अपनी जान दे देते हैं। वहीं, हर एक लाख महिलाओं में ये दर 5.4 की है। अगर सिर्फ भारत के आंकड़ों पर बात करें तो NCRB के आंकड़े बताते हैं कि 2021 में देश में 1,64,033 लोगों ने सुसाइड किया था। इनमें से 1,18,979 यानी 73% पुरुष और 45,026 महिलाएं थीं। यानी हर साढ़े 4 मिनट में एक पुरुष ने आत्महत्या कर ली।

Share this story