गाजियाबाद: सिर तन से जुदा करने की धमकी देने वाला गिरफ्तार:2.50 लाख की उधारी वापस मांगने पर भेजा था मैसेज, पत्रकार ने दर्ज कराई थी FIR
Ghaziabad: Arrested for threatening to sever his head: Message was sent on asking for back loan of 2.50 lakh, the journalist had lodged an FIR

गाजियाबाद में पत्रकार निशांत आजाद को सिर तन से जुदा करने की धमकी देने वाले को मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपी का नाम प्राणप्रिय वत्स है। वह बिहार का रहने वाला है। आरोपी प्राणप्रिय ने निशांत से ढाई लाख रुपए उधार लिए थे। निशांत का ध्यान भटकाने के लिए उसने वर्चुअल नंबर से कॉल कर धमकी दी।

लखनऊ में अतीक के करीबी के बिल्डिंग पर चला बुलडोजर:मोहम्मद ने वलिबदर अपार्टमेंट में बिना नक्शा पास कराए ऑफिस बनवा लिया था

इंदिरापुरम क्षेत्र के रहने वाले निशांत आजाद पेशे से पत्रकार हैं। 13 सितंबर को उन्होंने थाना इंदिरापुरम में FIR दर्ज कराई थी। निशांत के अनुसार, 12 सितंबर की शाम वॉट्सएप पर अननोन नंबर से उर्दू और अंग्रेजी भाषा में मैसेज आया।

थ्रेट मैसेज में लिखा था- स्टॉप प्रॉपगेटिंग एजेंडा अंगेस्ट इस्लाम


मैसेज में लिखा था- 'स्टॉप प्रॉपगेटिंग एजेंडा अंगेस्ट इस्लाम, यू विल पे फॉर इट'। इसका मतलब था कि इस्लाम के खिलाफ लिखना बंद कर दो, वरना तुम्हें अंजाम भुगतना पड़ेगा। निशांत ने पूछा- कौन हो तुम। इस पर दूसरे मैसेज में जवाब आया- 'गुस्ताख ए नबी की एक ही सजा, सिर तन से जुदा, सिर तन से जुदा'।

निशांत ने FIR में लिखवाया था- 'मैं पत्रकार हूं और समाज से जुड़े मुद्दों को उठाता रहता हूं। यह मामला इसलिए भी गंभीर है, क्योंकि हाल के दिनों में सिर तन से जुदा के कॉल-मैसेज कई लोगों को आए हैं और कई लोगों की जान भी गई है।'


बिहार का रहने वाला है आरोपी, ढाई साल से है परिचित


सीओ अभय कुमार मिश्रा ने बताया कि आरोपी निशांत को ढाई साल से जानता है। दोनों की मुलाकात बिहार चुनाव के दौरान हुई थी। आरोपी पर निशांत के करीब ढाई लाख रुपए उधार चल रहे थे। निशांत ये रुपए लगातार मांग रहा था। इस पर आरोपी ने निशांत का ध्यान बांटने का प्लान बनाया। इंटरनेट से एक वर्चुअल नंबर जेनरेट करके वॉट्सएप पर थ्रेट दे डाली। सीओ ने बताया कि आरोपी पर आगे की विधिक कार्रवाई की जा रही है।


डॉक्टर को धमकी देने का मामला निकल चुका है झूठा
11 सितंबर को डॉक्टर अरविंद वत्स 'अकेला' ने भी एक ऐसी ही FIR थाना सिहानी गेट में दर्ज कराई थी। डॉक्टर अकेला के मुताबिक, उन्हें यूएस नंबर से सिर कलम करने की धमकी दी गई। हालांकि SP सिटी निपुण अग्रवाल ने दावा किया है कि डॉक्टर ने सस्ती लोकप्रियता हासिल करने के लिए धमकी की झूठी खबर फैलाई थी। वॉट्सएप पर जिस नंबर से कॉल आई थी, वो नंबर डॉक्टर के ही मरीज का था।


 

Share this story