Swati Maliwal का स्टिंग दिल्ली को बदनाम करने की साजिश? मनोज तिवारी ने किया चौंकाने वाला खुलासा

Swati Maliwal's sting a conspiracy to defame Delhi? Manoj Tiwari made a shocking disclosure

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल के साथ कथित छेड़छाड़ का एक नया वीडियो वायरल होने के बाद घटना ने सियासी रंग ले लिया है। भाजपा सांसद मनोज तिवारी ने शुक्रवार को इसे दिल्ली को बदनाम करने की साजिश करार दिया। उन्होंने छेड़छाड़ के आरोपी के साथ 'आप' विधायक का फोटो जारी करते हुए कहा कि यह स्टिंग पूरी तरह से फर्जी था।

उधर, दिल्ली पुलिस भी सीसीटीवी फुटेज के आधार पर जांच को आगे बढ़ा रही है। देवली से 'आप' विधायक प्रकाश जारवाल के साथ आरोपी की तस्वीर जारी करते हुए तिवारी ने कहा कि हरीश 'आप' विधायक के करीबी हैं। ये पूरी घटना एक फर्जी स्टिंग की तरह है। ये दिल्ली को स्तब्ध करने वाली है। तिवारी ने आरोप लगाया कि सीसीटीवी फुटेज भी इस स्टिंग पर सवाल उठाते हैं। इस घटना की पूरी जांच जरूरी है।

जांच के लिए मांगी फुटेज : सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो को देखने के बाद पुलिस ने इसकी जांच शुरू कर दी है। पुलिस ने वीडियो के मुख्य सोर्स से वीडियो की मांग की है। वीडियो में कार चालक दिखाई दे रहा है जिससे स्वाति मालीवाल बात कर रही हैं, इसी दौरान आरोपी कार को तेज रफ्तार से भागने लगाता है।

मनोज तिवारी (भाजपा सांसद) ने कहा कि पूरी घटना फर्जी है। यह दिल्ली को स्तब्ध करने वाली है। जिनके ऊपर दिल्ली की जिम्मेदारी है, वे दिल्ली की क्या तस्वीर दिखाना चाहते हैं? यह फर्जी स्टिंग करने की क्या जरूरत थी?

अनहोनी की आशंका से भागा था हरीश : वकील

स्वाति मालीवाल के साथ छेड़छाड़ व घसीटने के आरोप पर आरोपी हरीश चंद्र के वकील एसके ढाका ने बताया कि हरीश अनहोनी की आशंका के चलते मौके से भागा था। हरीश चंद्र ने मदद के इरादे से मालीवाल के पास कार रोकी थी। पहली बार मालीवाल ने मदद लेने से मना कर दिया, लेकिन थोड़ा आगे जाने के बाद आरोपी को मालीवाल के साथ अनहोनी की आशंका हुई और वह वापस आ गया। दोबारा जब वह आया तो मालीवाल ड्राइवर साइड की ओर आकर कार की चाबी निकालने लगीं। यह देखकर हरीश को लगा कि वह लूट जैसी वारदात का शिकार न हो जाए। इसके बाद उसने भागना उचित समझा।


 

नया आरोप लगाया

कार चालक के खिलाफ एक अन्य महिला ने छेड़छाड़ का आरोप लगाया है। स्वाति मालीवाल ने ट्वीट कर लिखा है कि एक लड़की ने 181 हेल्पलाइन पर फोन कर बताया कि कैसे इस आदमी ने 17 जनवरी को लोधी रोड पर कई बार गाड़ी उसके आगे रोकी और गाड़ी में बैठने को कहा।

बरखा शुक्ला सिंह (पूर्व अध्यक्ष, दिल्ली महिला आयोग) ने कहा कि मैं महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल से कहना चाहती हूं कि इन ड्रामों से महिलाओं को कमजोर मत कीजिए, उनका हौसला बढ़ाएं। रात में जो महिलाएं काम पर जाती हैं, वह यह ड्रामा देख कर घर बैठ जाएंगी।

भाजपा की राष्ट्रीय प्रवक्ता शाजिया इल्मी ने कहा कि दिल्ली पुलिस को बदनाम करने के लिए एक साजिश के तहत स्टिंग किया जिस पर नैतिकता के तकाजे पर गंभीर सवाल खड़े होते हैं। क्या महिला सुरक्षा जैसे गंभीर मुद्दे पर ओछी सियासत जायज है?

Share this story